God Rebeats

Hindi Bhajan | Free Bhajan | Krishna Bhajan

मन लागो मेरो यार फकीरी में – विविध भजन

मन लागो मेरो यार फकीरी में – विविध भजन

man laago mero yaar fakiri me

 

मन लागो मेरो यार फकीरी में ।

जो सुख पावो राम भजन में,
सो सुख नाही अमीरी में ॥

भला बुरा सब का सुन लीजै,
कर गुजरान गरीबी में ॥

प्रेम नगर में रहिनी हमारी,
भली बन आई सबुरी में ॥

हाथ में खूंडी, बगल में सोटा,
चारो दिशा जागीरी में ॥

आखिर यह तन ख़ाक मिलेगा,
कहाँ फिरत मगरूरी में ॥

कहत कबीर सुनो भाई साधो,
साहिब मिले सबुरी में ॥

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

God Rebeats © 2015 Krishna Bhajan