God Rebeats

Hindi Bhajan | Free Bhajan | Krishna Bhajan

जगत माहि संत परम हितकारी – गुरुदेव भजन

जगत माहि संत परम हितकारी – गुरुदेव भजन

 

संत परम हितकारी, जगत माहि संत परम हितकारी |

प्रभु पद प्रगट करावे प्रीती, भरम मिटावे भारी |

परम कृपालु सकल जीवन पर, हरि सम सकल दुःख हारी |

त्रिगुन्तीत फिरत तन त्यागी, रीत जगत से नयारी |

ब्रह्मानंद कहे संत की सोबत, मिळत है प्रगट मुरारी |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

God Rebeats © 2015 Krishna Bhajan